नुब्रा घाटी की ऊँची पहाड़ियाँ सभी को करती है आकर्षित देखिये तस्वीरे..

मनोरंजन

जब भी देश में घूमने के लिए जगह चुनी जाती है, तो लद्दाख का नाम दिमाग में आता है, जिसे भारत का ताज कहा जाता है। लद्दाख में घूमने के लिए कई जगहें हैं जो अपनी सुंदरता और प्राकृतिक सुंदरता से सभी को आकर्षित करती हैं। इसी कड़ी में आज हम आपको नुब्रा घाटी के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं, जिसे ‘लद्दाख का बगीचा’ कहा जाता है, जो लद्दाख के पहाड़ों के बीच स्थित है।

नुब्रा का अर्थ है “फूलों की घाटी”। यह घाटी “गुलाबी” और “पीले जंगली गुलाब” से सजी है। लेह से 150 किमी की दूरी पर स्थित नुब्रा घाटी बहुत ही आकर्षक और सुंदर है। इस घाटी का इतिहास भी बहुत पुराना है। इतिहासकारों के अनुसार, इसका इतिहास सातवीं शताब्दी ईस्वी पूर्व का है। पूर्व पुराना है। इतिहास में, इस घाटी पर चीनी और मंगोलिया द्वारा आक्रमण किया गया था। आइए जानते हैं नुब्रा घाटी के बारे में।

घाटी प्राकृतिक दृश्यों से सजी है:

नुब्रा घाटी प्राकृतिक दृश्यों से सजी है। इस घाटी की रेत, पहाड़ियां घाटी की सुंदरता में चार चांद लगाने का काम करती हैं। यहां का मौसम काफी ठंडा है। नुब्रा घाटी श्योक नामक दो नदियों के बीच स्थित है। यहां की संस्कृति भी काफी अलग है।

लेह नुब्रा:

नुब्रा घाटी तक पहुँचने के लिए सड़क मार्ग से जाना पड़ता है। पहला राष्ट्रीय मार्ग से खारदुंग ला तक जाता है। उसके बाद खारदुंग गाँव से श्योक घाटी की यात्रा करता है। यात्रियों को नुब्रा घाटी जाने से पहले दो दिन लेह में रहना पड़ता है। एक बार जब यात्री यहां के वातावरण में पहुंच जाते हैं, तो वे आगे की यात्रा कर सकते हैं। इस यात्रा में आपको खूबसूरत सड़कें मिलेंगी जो आपका दिल जीत लेंगी। नुब्रा घाटी के करीब पहुंचने पर आपको रेत के टीलों के साथ एक सुनसान सड़क मिलेगी।

डिस्केट और हंडर:

डिस्किट और हैडर नुब्रा घाटी का व्यापारिक केंद्र है। यह जगह बहुत खूबसूरत है। आपको डिस्केट और हुंड्र में रुकने के लिए होटल, होम स्टे, रिसॉर्ट और टेंट आसानी से मिल जाएंगे। यहां की जलवायु भी काफी शांत है। इस स्थान पर दो कूबड़ वाले ऊंट देखे जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *